Shaiyari

Shairiya !

1
गमो कि महफिल मे आते है रोज़ हम ,
अश्को के प्याले से लब टकराते है रोज़ अब ,
छोड़ दिया इस मंज़र पर आकर आपने ,
कदम हमारे आते इस महफिल मे कब ??

2
हर दिन को नए दिन का इंतज़ार है ,
बीते दिन की खामियों के लिए बीते दिन ही ज़िम्मेदार है ,
उन दिनों कि सज़ा आने वाले दिनों को मत देना ,
इस दिन को तुम हँस कर दिखायो क्यो कि ये इसका हकदार है

3

आप कह्दे जो एक बार तो रुलाते को हँसा दे ,
आप के खातिर ज़माने को भुला दे ,
खुदा ने बडे नाज़ो से बख्शा है आपको झोली मे हमारी ,
आपकी एक मुस्कान के लिए अपने हज़ार आंसू सुखा दे

4
कुछ पल जो बिताये है साथ वो पल यादगार बन जायेंगे ,
सोचो ये छोटो छोटो किस्से बाद मे होते पर मुस्कान ले आएंगे ,
ज़रूर कुछ अच्छा किया होगा हमने अपनी जिन्दगी मे ,
वरना कब सोचा था कि आप दोस्त बनकर हमारी जिन्दगी मे आयेंगे

Advertisements

2 thoughts on “Shairiya !

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s