Na chupana.

तू दिल के अरमा दिल मे कभी ना छुपाना ,कुछ बातें दोस्तो भी ज़रा बतलाना। ओ रही चलते चलते कभी हार तू ना जाना ,तेरी तो मंज़िल आएगी तू कभी ना घबराना ,मेरी बातो को गौर से तू आज़माना ,तू दिल के अरमा ………………. सागर के दो किनारे है किस पार तुझे जाना ,एक पार…