Kuch tum!

कुछ तुम आगे आए,
कुछ हमने कदम बढाये,
इतने करीब आ पहुंचे,
की बन गए हमारे साए,

कभी तुमको हंसाया हमने,
कभी गुदगुदा दिया तुमने,
आदत हों गयी की बैगैर तेरे,
मुस्कुराना बंद कर दिया इन होटों ने,

कुछ वो मेरी बातों को समझे ,
कुछ मै उनके जज्बातों को समझी,
ये अहसास इतने सुहाने है,
रहती हू मै इनमे खोयी खोयी,

कभी मैंने उन्हें सताया,
कभी वो रूठ गए हमसे,
पर डोर इतनी मज़बूत थी ,
खीच लायी हमेशा उन्हें ,

कुछ पल उन्होंने सजाये,
कुछ लम्हे हमने बनाये,
ये पल मेरी ज़िन्दगी में,
असीम खुशियाँ है लाये,

कभी तेरी ख़ुशी के लिए,
मैंने अपने गम भुलाये,
कभी तूने मेरे संग रोने के लिए,
अपने कीमती पल गवाए,
है इतना कुछ हमारे दरमियान,
जो भूले ना भूलाए,

कुछ  तुम  आगे  आए,
कुछ  हमने  कदम  बढाये,
इतने  करीब  आ  पहुंचे ,
की बन  गए हमारे  साए!!

Advertisements

14 comments

  1. Anonymous · July 26, 2010

    Awesome!!

  2. mohit · July 26, 2010

    Zabarzast..

  3. Saurabh Gupta · July 27, 2010

    wow!! 🙂

  4. Ashish · July 27, 2010

    Very well Written…. Brilliant:):)

  5. Anonymous · July 28, 2010

    good and nice…keep going…:)

  6. the Success Ladder · July 31, 2010

    Very interesting article, thanks. Keep up the good work.

  7. the Success Ladder · August 21, 2010

    Thanks.

  8. Anonymous · August 24, 2010

    कुछ तुम आगे आए,
    कुछ हमने कदम बढाये,
    इतने करीब आ पहुंचे,
    की बन गए हमारे साए,
    khoobsurat rachna

  9. Anonymous · August 24, 2010

    कुछ तुम आगे आए,
    कुछ हमने कदम बढाये,
    इतने करीब आ पहुंचे,
    की बन गए हमारे साए,
    khoobsurat

  10. Anonymous · September 20, 2010

    कुछ तुम आगे आए,
    कुछ हमने कदम बढाये,
    इतने करीब आ पहुंचे,
    की बन गए हमारे साए,
    बहुत ही भावपूर्ण रचना …. प्रस्तुति के लिए बधाई

  11. Anonymous · September 20, 2010

    बहुत ही भावपूर्ण रचना …. प्रस्तुति के लिए बधाई

  12. vijay · September 20, 2010

    बहुत ही भावपूर्ण रचना …. प्रस्तुति के लिए बधाई

  13. vijay · September 23, 2010

    कुछ तुम आगे आए,
    कुछ हमने कदम बढाये,
    इतने करीब आ पहुंचे,
    की बन गए हमारे साए,
    bahut hee khoobsurat rachna,,,ak gahari bat ko aapne bahut hee sahaj treeke se kah diya

  14. ASHUTOSH · January 26, 2011

    MIND BLOWING

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s