Hindi Poems

Yeh Ishq !

One more from my old stock .. I was just going through my diary.. Found this one.

Here it is.

कोसते है उस इश्क को,
जो अश्क बनके आता है,
बेवफाई किसी और की ,
और सजा कोई और पाता है ,


पूजते है उस इश्क को,
जो हमें जीना सिखलाता है,
उसकी एक मुस्कान में ,
पूरा जहां समां जाता है,

वो खुशनसीब होते है,
जहां इश्क इश्क को पाता  है,
कुछ किस्मत के मारे होते है,
जिन्हें यही इश्क तड़पता है,

मोहोब्बत होती है सच्ची सदा,
पर सबके दिल में बस्ती  नहीं,
एक बार जो करले अपना कब्ज़ा,
सब इसके बस में हों जाता है,

खुशाल करे, बेहाल करे,
सब इसकी मर्ज़ी होती है ,
कहने  को  चीज   है  छोटी  सी ,
पर  ज़िन्दगी  बदल  देती  है ,

कोसते है उस इश्क को,
जो अश्क बनके आता है,
पूजते है उस इश्क को,
जो हमें जीना सिखलाता है .

Advertisements
Hindi Poems

Zindagi ki Aajmaaish !!

पल दो पल की ज़िन्दगी ,
गहरी सोच में डूबी हुई ,
तमाशा बनके रह जाती है ,
जो हम हों जाये इसके बस में कहीं,

ज़माने के सामने लगती है,
हमारे दर्द की नुमाइश ,
भारी लगने लगती है ,
ज़िन्दगी की आजमाइश.

गुम  हों जाते है उन रहो पर,
जिसकी कोई मंजिल नहीं ,
अनदेखे कर देते है वो दरवाजे ,
जो हमारे लिए खुले अभी अभी .

क्यों खुली आँखों से भी ,
कुछ दिखाई नहीं देता ?
क्यों जो सब समझाना चाहते है ,
वो सुनाई नहीं देता?

यह दिल बेचारा क्या करे,
कुछ सोच नहीं पाता,
बीते पलो में उलझ कर ,
बस वही ठहर जाता .

तो क्यों ना हम दिल को ,
दे थोड़ा सा आराम ,
और दिमाग का भी,
करे इस्तेमाल ,
दोनों के ताल मेल से ही ,
पूरी करे अपनी उड़ान ,

ज़िन्दगी चलती है वैसे ,
जैसे हम चलाना चाहते है,
और अपने आंसुयो का कारण,
हम किसी और को ठहराते है .

कोई साथ रहें ना रहें,
यह वक़्त रहता है साथ सदा,
खराब होती है परिस्थितिया .
वक़्त कभी बुरा नहीं होता.

ढूंढ  निकालो हर मुस्कान को,
हर पल जियो अपनी ख्वाइश से,
ना हटना कभी भी पीछे ,
ज़िन्दगी की आजमाइश से ||

Hindi Poems

Kadam ruk gaye !

वक़्त कुछ थम सा गया है ,
पर चाह है आगे बढने की ,
कोई डोर खीच रही है पीछे ,
जाने क्यों कदम रुक गए है यही ,

आज भी कोशिश जारी है ,
इस जाल से निकलने की ,
अपने पंखो को खोल कर ,
वैसे ही आसमा में उड़ने की ,

अंजानी सी कशमकश है ,
एक बैचैनी से है हों रही ,
क्या कुछ छूट रहा है पीछे ,
या है बस मेरी गलतफैमी ?

ढूंढ रही हूँ अपने अस्तित्व को ,
जो कही खो सा गया है ,
तन्हैयाँ भाने लगी मुझे ,
अकेलापन अपना सा हों गया है ,

रास्ते दिखाई दे रहें है ,
पर आगे बढने की हिम्मत नहीं ,
कोई डोर खीच रही है पीछे ,
जाने क्यों कदम रुक गए है यही !!

Hindi Poems

Teri Yaad

This one is dedicated to all those who are in true love 🙂 🙂 ..Hope  you will like it 🙂

पहली बूँद बारिश की,
जब मुझको छू कर जाती है ,
तुझे महसूस कर सकती हूँ ,
तेरी बहुत याद आती है ,

हर दिन सूरज की किरणे ,
जब मुझको रोशन कर जाती है ,
इन आँखों में तेरी तस्वीर ,
खुद बा खुद बन जाती है ,

हर शाम तेरे साए की तरह ,
मुझे तेरा अहसास कराती है ,
तू दूर हों या पास मेरे ,
पर निगाहे तुझे करीब पाती है ,

तू साथ होता है तो ,
ख़ामोशी भी गुनगुनाती है ,
बस गया है मेरी रूह में तू इस तरह ,
ठण्ड तुझे अगर लगे ,
तो कम्पन मुझे हों जाती है ,

तेरी हँसी की गूँज सुनकर ,
ये हवाए मुझे झूला झूलती है ,
तेरी हर छोटी ख़ुशी भी ,
मेरे होटो पर गुदगुदी कर जाती है ,

लम्हे यादगार बन जाते है ,
कुछ और यादें जुड़ जाती है ,
जब भी हाथ रखती हूँ दिल पर ,
धड़कन तेरा ही अहसास पाती है ,

इतनी खुशिया समेटू कैसे ,
पल पल झोली भर जाती है ,
तू आया मेरा नसीब बनके ,
हर रात हलके से कह जाती है ,

पहली बूँद बारिश की,
जब मुझको छू कर जाती है ,
तुझे महसूस कर सकती हूँ ,
तेरी बहुत याद आती है |

English Poems

With you near me..

With u near me,
I could feel ur breath,
Lying on ur shoulder,
Holding ur hands,

You are the half ,
That made me whole,
You are the one,
Who has touched  my soul,

With u near me,
Long i could walk,
Without saying a word,
Could listen to silent soul talks,

Never restrict urself,
From letting me know,
As m ur part and,
I have rights to grow,

With u near me,
I get intense happiness,
And untouched feelings,
ll be flowing continuous,

You are strong ,
When I am weak
You are the words ,
When I can’t speak

With u near me,
My worries disappears,
Someone loves me ,
Without any fear,

With you near me,
Or somewhere far away,
ll always be there,
To share whatever comes ur way

With u near me ,
Very special I feel,
You are mine forever,
Not a dream its real:)

Nothing in my life,
Is more prior than u,
In this bizarre world,
Am lucky..I found you!!

Hindi Poems

Kyu kare galatiyaan ?

दूर  जिन्हें  जाना  है ,
दिल  चाहे  साथ  उन्हीं  का ,
चंद  पलों  के  लिए  ही  सही  ,
पर  ये  चाहे  करीबिया,

सामने  है  हमारे  फिर  भी ,
सहारा  है  बस  उनकी  यादो  का ,
कल  जब  पास  न  होंगे  वो ,
पीछा  करेंगी  उनकी  पर्छाइया ,

उन्हें  खुश  रखने  के  लिए ,
अपने  जज्बातों  को  कैद  किया ,
दिल  की  आवाज़  को  ,उन  अल्फाजो  को ,
हमने  खुद  ही  अनसुना  किया ,


कैसे  करे  इजहार, इनकार  से  लगता  है  डर ,
उनकी  एक  बेरूखी  दे  जाएँगी  हमे   बेहोशिया,
टूटी  बिखरी  यादें  है  इस  रिश्ते  की ,
फिर  भी  इस डोर ने  हमे  बाँध   लिया ,


रास्ते  अलग है  हमारे  फिर  भी
उनका  इंतज़ार  करके,
न  जाने बार बार  हम  क्यों  करे  गलतियाँ ?