Adat ho gayi..

इन  आँसुओ को  भी  बहने  की  आदत  हों  गयी , नींद को भी जगने की आदत हों गयी , हर नया जख्म पहले  से  ज्यादा  गहरा  लगने  लगा , मुस्कुराहट  को  चुप  रहने  की  आदत  हों  गयी . वो  चंद  पल  खुशियों  के , दे  गए  हमे  दर्द  सदियों  का , उन  रास्तो  पर  चल  दिए  हम , जहाँ   पता  नहीं  मंजिल  का , थम  गए  है  यह  रास्ते  भी , अब  तो इन्हें  भी  रुकने  की  आदत  हों  गयी , इन आँसुओ को भी बहने की आदत हों गयी , मुस्कुराहट को चुप रहने…